राज्य

संविधान की मूल भावना है सभी वर्गों को न्याय मिले

संविधान की मूल भावना है सभी वर्गों को न्याय मिले

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ का पिछड़ा वर्ग द्वारा सम्मान

भोपाल – {sarokaar news} मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा है कि संविधान की मूल अवधारणा है कि सभी वर्गों के साथ न्याय हो। संविधान की इसी सोच के साथ मध्यप्रदेश सरकार काम कर रही है। प्रदेश में हर वर्ग को न्याय मिले और नौजवानों को रोजगार मिले। श्री नाथ आज समन्वय भवन में दलित पिछड़ा अधिकार मोर्चा द्वारा पिछड़े वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण देने के निर्णय पर आयोजित सम्मान एवं आभार समारोह को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि हम किसी वर्ग को आरक्षण नहीं दे रहे हैं बल्कि संविधान की भावना के अनुसार उन्हें न्याय दे रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि न्याय का यही सिद्धांत आज हमें सभी प्रकार की अनेकता के बाद भी एकता के सूत्र में पिरोए हुए हैं। आज कोई वर्ग न्याय से वंचित होगा, तो हम संविधान की मूल भावना को आघात पहुंचायेंगे। न्याय से जुड़े रहेंगे, तो देश निरंतर प्रगति करता जाएगा। उन्होंने कहा कि संविधान को न्याय से जोड़ने का काम इसके निर्माता बाबा साहेब अंबेडकर ने किया। उन्होंने कहा कि हमारे विशाल देश को दो शक्तियों ने एकजुट कर रखा है। एक हमारी अनेकता में एकता और दूसरी आध्यात्मिक शक्ति है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा संविधान इतना महान है कि इसे कई देशों ने अपनाया है। हमें संविधान की रक्षा करना है, इसे अक्षुण्ण बनाए रखना है।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती हर एक नौजवान को काम देने की है। यह तभी संभव होगा, जब प्रदेश में निवेश आए, उद्योग धंधे लगें, आर्थिक गतिविधियों में वृद्धि हो। इसके लिए जरूरी है कि प्रदेश के प्रति निवेशकों का विश्वास बढ़े। सरकार निवेशकों के विश्वास को लौटाने का निरंतर प्रयास कर रही है।

पिछड़ावर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने पर मुख्यमंत्री का किया आभार

मुख्यमंत्री ने पिछड़ा वर्ग के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा इस वर्ग ने उन्हें जो प्यार और विश्वास दिया है, उससे उन्हें बल मिला है, सभी वर्गों के सर्वांगीण विकास के लिए शक्ति मिली है। मुख्यमंत्री ने पूर्व उप मुख्यमंत्री श्री सुभाष यादव का स्मरण करते हुए कहा कि पिछली बार मैंने समन्वय भवन का नामकरण स्व. श्री सुभाष यादव के नाम पर करने को कहा था। आज इस भवन पर उनका नाम देखकर बेहद खुशी हुई। उन्होंने कहा कि वर्ष 1980 में मैं और यादव जी सांसद थे। उनसे मेरा गहरा रिश्ता था। पिछड़ा वर्ग समाज के लिए वे हमेशा चिंतित रहते थे।

उच्च शिक्षा मंत्री श्री जीतू पटवारी ने कहा कि आज मंत्रि-मंडल में सर्वाधिक 40 प्रतिशत पिछड़े वर्ग के मंत्री शामिल हैं। इन सभी मंत्रियों पर महत्वपूर्ण जिम्मेदारी भी है। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ पिछड़े वर्ग को उनकी आबादी के अनुसार 27 प्रतिशत आरक्षण देने के साथ ही हर क्षेत्र में पूरा सम्मान और अधिकार भी दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ऐतिहासिक फैसले ले रहे हैं, वह भी प्रचार-प्रसार से दूर रह कर। उनका विश्वास सिर्फ काम करने में है। काम का लाभ जरूरतमंदों को मिले, यह सुनिश्चित करना मुख्यमंत्री का लक्ष्य है।

पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल और कुटीर, ग्रामोद्योग एवं नवीन नवकरणीय उर्जा मंत्री श्री हर्ष यादव ने कहा कि 27 प्रतिशत आरक्षण देकर मुख्यमंत्री ने पिछड़े वर्ग को एतिहासिक सौगात दी है। पशुपालन मंत्री श्री लाखन सिंह यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री ने जो न्याय पिछड़ा वर्ग को दिया है, उसके लिए पूरा वर्ग उनके साथ दृढ़ता के साथ खड़ा हैं। किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री सचिन यादव ने कहा कि प्रदेश की आधी आबादी पिछड़ा वर्ग को पहली बार न्याय मिला है।

समारोह में मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ को दलित पिछड़ा अधिकार मोर्चा के अध्यक्ष श्री दामोदर सिंह ने माँ पीताम्बरा देवी का चित्र भेंट किया। इस मौके पर मध्यप्रदेश राज्य सहकारी बैंक के अध्यक्ष श्री अशोक सिंह , विधायक श्री कुणाल चौधरी एवं बड़ी संख्या में पिछड़ा वर्ग समाज के लोग उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close