उत्तर प्रदेश

फैज़ाबाद जाते वक्त संदीप पांडेय और साथियों को रौनाही टोल प्लाजा पर पुलिस ने गैर कानूनी तरीके से हिरासत में लिया

लोकतंत्र के हक़ में उठने वाली आवाज़ों से सत्ता डरी

फैज़ाबाद जाते वक्त संदीप पांडेय और साथियों को रौनाही टोल प्लाजा पर पुलिस ने गैर कानूनी तरीके से हिरासत में लिया

यूपी – {sarokaar news} सामाजिक संगठनों से डरकर उत्तर प्रदेश सरकार ने पूर्व नियोजित कार्यक्रम को फेल करने के लिए बुद्धिजीवियों को नज़र बंद कर दिया। अब जब एक बार फिर जाने माने समाजसेवी और बुद्धिजीवियों ने समाज में समरसता लाने के लिए साम्प्रदायिक सदभाव पर बैठक करने का निर्णय लिया जिसमे प्रो राम पुनियानी जी शिरकत करने वाले थे, सरकार ने गैरकनूनी तरीके से प्रतिबंध लगा दिया।

कल 16 अगस्त 2019 को पूर्व घोषित कश्मीर के लोगों के समर्थन में एक घंटे के मोमबत्ती प्रदर्शन को रोकने के लिए एडवोकेट मुहम्मद शुऐब, मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित संदीप पांडेय को अन्य साथियों के साथ अपने घरों में पुलिस द्वारा नजरबंद किया गया।

समाजसेवी मोह. शोएब और राजीव यादव साथियों सहित हिरासत में

आज फिर 17 अगस्त को अयोध्या के रामजानकी मंदिर में दो दिवसीय साम्प्रदायिक सद्भाव पर बैठक जिसमें मुंबई से प्रो0 राम पुनियानी भी शरीक होने आए थे पर गैरकानूनी प्रतिबंध लगाया गया. अयोध्या, फैज़ाबाद जाते वक्त संदीप पांडेय, प्रो0 रामपुनियानी और साथियों को रौनाही टोल प्लाजा पर पुलिस द्वारा गैर कानूनी तरीके से रोका गया. अयोध्या कार्यक्रम के आयोजक आचार्य युगल किशोर शास्त्री को अयोध्या से पुलिस हिरासत में रौनाही लाया गया।

ऐसा बताया जा रहा है कि कश्मीर में धारा 370 और 35ए को खत्म करने के बाद उत्पन्न हुई परिस्थितियों में ये प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं. जबकि अयोध्या में होने वाले दो दिवसीय कार्यक्रम का कश्मीर से कोई लेना देना नहीं था. जम्मू और कश्मीर में तो नागरिक अधिकारों पर पूरी तरह से रोक लगाई गई है, देश के बाकी हिस्सों में भी जम्मू और कश्मीर के तर्ज पर ही नागरिक अधिकारों का हरण कर लिया गया है। रौनाही में ही पुलिस हिरासत में युगल किशोर शास्त्री, राजीव यादव, हफ़ीज़ क़िदवई, आशीष यादव, अनुराग शुक्ला भी रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close