पन्ना

शिवपुरी की हृदय विदारक घटना के विरोध में सौंपा ज्ञापन

हत्यारों को फांसी देने की उठी मांग

शिवपुरी की हृदय विदारक घटना के विरोध में सौंपा ज्ञापन

मासूम दलित बच्चों को पीट पीटकर मारने वालों को फांसी हो : बाल्मीक समाज

पन्ना – {sarokaar news} मध्य प्रदेश के शिवपुरी में दलित बच्चों को पीटपीटकर मर दिए जाने की हृदय विदारक घटना पर रोष प्रकट करते हुए बाल्मीकि समाज के लोगों ने महामहिम राष्ट्रपति ने नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा।

काबिलेगौर है कि खुले में शौंच को लेकर मध्य प्रदेश के शिवपुरी में दबंगों द्वारा दो मासूम दलित बच्चों की पीट पीटकर हत्या कर दी गई थी। इस घटना ने समाज में फैले वर्ग विशेष के प्रति पूर्वाग्रह को उजागर कर दिया है। देश में विगत कुछ सालों से ऐसी घटनाएं आम हो रहीं हैं जिसमे महज शक के आधार पर भीड़ द्वारा मर दिया जाता है, इस किस्म की घटनाओं को रोकने के लिए केंद्र सरकार द्वारा अब तक नाकाफी प्रयास किये गए हैं कई घटनाओं में तो सत्ता पक्ष के नेताओं ने ऐसे अपराधियों का फूल मालयों से स्वागत किया है। तो क्या सत्ता संरक्षण में चल रही अकारण मार देने की प्रवृत्ति समाज में लगातार बढ़ रहीं हैं? लगातार मॉब लिंचिंग की घटनाएं बढ़ रहीं है और इसके सबसे ज्यादा शिकार दलित और मुस्लिमों को बनाया जा रहा है।

मध्य प्रदेश सरकार एक ओर दलित समाज को कई योजनाओं के माध्यम से जीवन स्टार उठाने के लिए कार्यक्रम चला रही है तो दूसरी ओर शिवपुरी जिले के भावखेडी ग्राम मे दलित समाज के दो मासूम बच्चों रोशनी और अवीनाश को दबंगों द्वारा सिर्फ इसलिए अकारण मार दिया जाता है कि बच्चे दलित समाज से हैं तथा उनका अपराध यह है कि वह खुले में शौंच कर रहे थे। प्रदेश में अपराधियों में कानून का डर नहीं रह गया है, सरकार का दायित्व है कि अपराधियों में कानून का डर बरकरार रहे ताकी आमजन शांतिपूर्वक रह सके। जब इस प्रकार की घटनाएं सामने आतीं है तो सरकार की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़े होते हैं।

शिवपुरी की घटना के विरोध में बाल्मीकि समाज ने महामहिम राष्ट्रपति के नाम पर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपते हुए मांग की है कि हत्यारों को जल्द से जल्द गिरफ्तार कर फांसी की सजा दी जाये और पीड़ित परिवार को 20 – 20 लाख रूपए मुआवजा सहित परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी और सुरक्षा प्रदान की जाये। ज्ञापन देने वालो मे पूर्व पार्षद मनोज केशरवानी, रियास्त खॉन, शैलेस विश्वकर्मा अरविन्द्र मटू, सुनील बाल्मीक, अमरवाल्मीक, रोहीत वाल्मीक, अजय अिंहरवार, अनिल वर्मा, भोला कुशवहा, सुनील वाल्मीक, राजेन्द्र शिगोतें, सौरभ नहारिया, राहुल वाल्मीक, संजू डागोर, माया सुर्दशन, प्रति लागांटे, हेमलता, विमला चुटोले, लक्ष्मी करोसीया, अमित करोसिया, विशाल मंटू, सहित भार संख्या मे पुरूष तथा महिलाए शामिल रही।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close