पन्ना

लिपिकवर्ग की हड़ताल जारी रहेगी

मध्य प्रदेश लिपिकवर्ग की हड़ताल जारी रहेगी
                       सरकार नहीं मांग रही मांगे बातचीत रही बेनतीजा
                        लिपिकवर्ग का हड़ताल जारी रखने का एलान 

पन्ना- मध्य प्रदेश लिपिक वर्गीय शासकीय कर्मचारी संघ द्वारा समूचे प्रदेश में 23 जुलाई से काम बंद हडताल चल जारी है। हड़ताल के कारण सरकारी विभागों में काम की रफतार थम सी गई है इसका असर सरकारी कामकाज के साथ साथ जनता पर भी पड़ता साफ दिखाई दे रहा हैं। सरकारी विभागों में काम न होने से आमजन खासा परेशान है विभागों में काम लगभग ठप्प है। सरकार की ओर से लिपिकवर्ग को अभी तक न तो कोई आश्वासन मिला है और न ही बात करने के लिये लिपिकवर्ग के प्रतिनिधियों को बुलाया गया है। एक ओर लिपिकवर्ग अपनी मांगों को लेकर काम बंद हड़ताल पर है तो दूसरी ओर सरकार अपनी जिद पर अड़ी हुई है। सरकारी कार्यालयों में काम न होने के कारण आमजन में रोष पनप रहा है तथा लिपिकवर्ग हड़ताल के माध्यम से आमजन को यह बताने में सफल रहा है कि उनकी वर्षों से लंबित जायज मांगों को सरकार नहीं मान रही है।
क्या हैं मांगें-  सहायक ग्रेड 3 संवर्ग का ग्रेड वेतन रुपए 19 सौ के स्थान पर 24 सौ किया जाए। सामान्य प्रशासन विभाग एवं वित्त विभाग के मतों में भिन्नता होने के कारण सामान्य प्रशासन विभाग कैबिनेट के विचारण हेतु मामला ले जाए।
सहायक ग्रेड-3 संवर्ग को प्रथम समयमान पर 2800  दुतिए समयमान 32 सौ तथा तृतीय समयमान 36 सौ दिया जाये।
जल संसाधन विभाग एवं वन विभाग के लिपिकों को बगैर विभागीय परीक्षा के समयमान वेतनमान दिया जाए इस संबंध में चतुर्थ श्रेणी हेतु जारी परिपत्र दिनांक 17-3-201 को मार्गदर्शी सिद्धांत माना जाए।
संभागीय लेखापाल और सहायक अधीक्षक संवर्गों को समकक्ष पद घोषित करते हुए उनका वेतनमान एवं ग्रेड पे सामान की जाए।
लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अंतर्गत आने वाले गणित संवर्ग को सहायक ग्रेड-2 के समकक्ष घोषित करते हुए सहायक ग्रेड 2 के समयमान वेतनमान एवं ग्रेड पे दिया जाना सुनिश्चित किया जाए।
जिला पंचायत जनपद पंचायत एवं शहरी विकास शहरी विकास अभिकरण आदिम जाति कल्याण विभाग में कार्यरत लिपिकों को पेंशन बीमा योजना विभाग द्वारा घोषित की जाए।
अनुकंपा नियुक्ति के माध्यम से सहायक ग्रेड 3 में आने वाले कर्मचारियों को शिक्षकों की भर्ती नियुक्ति दिनांक से 1 वर्ष बाद से बगैर टाइपिंग परीक्षा उत्तीर्ण हेतु वेतन वृद्धियां स्वीकृत की जाए।
सर्वोच्च न्यायालय द्वारा सिविल अपील क्रमांक 11 527/14 स्टेट ऑफ पंजाब विरुद्ध रफीक मशीह में पारित निर्णय दिनांक 18-12- 2014 के पालन में तृतीय श्रेणी चतुर्थ श्रेणी एवं सेवानिवृत्त से वसूली करने संबंधी स्पष्ट निर्देश जारी किए जाएं एवं उक्त निर्णय के परिपेक्ष में वसूली संबंधी पुरुषों को संशोधित किया जाए।
पदोन्नति एवं समयमान दोनों स्वीकृत करते हुए नियमन मूल वेतन + ग्रैड पे का 3% जोड़कर दिया जाए।
संभाग जिला तहसील विकासखंड स्तर के कार्यालयों हेतु लिपिकीये सेटअप वर्तमान परिस्थितियों के अनुसार सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा बनाकर लागू किया जाए एवं उक्त कार्यालय में लिपिक की भर्तियां जाएँ।
राजस्व विभाग के स्टेनो टाइपिस्ट हेतु चार स्तरीय पदोन्नति चैनल बनाने हेतु सामान प्रशासन विभाग की ओर से राजस्व विभाग को पत्र भेजा जाए।
मंत्रालयीन अनुभाग अधिकारी का वेतनमान भारत सरकार एवं अन्य राज्य सरकारों की भांति पुनरीक्षित किया जाए शासकीय सेवा में रहते हुए किसी लिपिक द्वारा पीएचडी या अन्य कोई समकक्ष उच्च स्तरीय शैक्षिक डिग्री हासिल की जाती है तो उसे पूर्व की भांति अतिरिक्त वेतन वृद्धि देकर उत्साहित किया जाए।
इस तरह कुल 23 मांगों को लेकर समूचे मध्य प्रदेश के लिपिकवर्ग कर्मचारी तहसील स्तर से लेकर राजधानी भोपाल तक विगत 23 जुलाई से हड़ताल पर डटे हुये हैं।
काबिलेगौर है कि मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं ऐसे में कर्मचारियो को लगता है कि अगर हमारी मांगे अभी नहीं मानी गईं तो मामला और कई सालों के लिये टल सकता है। चुनाव के ऐन पहले लिपिकवर्ग सरकार पर दबाव बनाकर अपनी मांगों को मनवाना चाहता है लेकिन सरकार उनकी मांगों को गंभीरता से नहीं ले रही है जिसका असर विधानसभा चुनावों में पड़ना तय माना जा रहा है। लिपिकवर्ग की मांगों को मीडिया का समर्थन भी मिल रहा है जिससे लिपिकवर्ग कर्मचारी आमजन को यह बताने में सफल रहे हैं कि सरकार उनके साथ नाइंसाफी कर रही है जिससे आम आदमी लिपिकवर्ग की हड़ताल के लिये सरकार के अडियल रवैये को जिम्मेदार मानता है।
आज समूचे प्रदेश के लिपिकवर्ग जिला अध्यक्षों के साथ वित्त मंत्री जयंत मलैया के साथ वार्ता हुई किंतु यह वार्ता बेनतीजा रही। अब देखना होगा कि सरकार क्या निर्णय सरकार लेती है लिपिकवर्ग को संतुष्ट कर पाती है अथवा यह हड़ताल लंबी चलेगी।
पन्ना के जय स्तम्भ पार्क कलेक्ट्रेट चौराहे पर लिपिकवर्ग कर्मचारी संघ की अनिश्चित् कालीन हड़ताल जारी है रही जिसमें राजस्व विभाग, शिक्षा विभाग, लोक निर्माण विभाग, जिला कोषालय, परिवहन विभाग, पीआईयू , जल संसाधन विभाग, ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, कृषि विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, डाईट, वन विभाग, सामाजिक न्याय, आदिम जाति कल्याण विभाग, आबकारी विभाग, खनिज विभाग, खाद्य विभाग, स्वास्थ्य विभाग, उपसंचालक पशु, पॉलीटेक्निक कॉलेज पन्ना, जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र, जिला अभियोजन कार्यालय, सहायक पंजीयक सहकारिता, जिला पंचायत पन्ना, शासकीय कन्या महाविद्यालय सहित सभी विभाग के सैकड़ों लिपिक हड़ताल में उपस्थित रहे।
हड़ताल में श्री आलोक खरे, अध्यक्ष संयुक्त मोर्चा जिला पन्ना, बीपी परौंहा अध्यक्ष, तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ पन्ना, एमके रावत वन कर्मचारी अध्यक्ष, कमलेश त्रिपाठी शिक्षक संघ कांगेस अध्यक्ष, रामलखन शर्मा, नारायण प्रसाद कोरी, राम बाबू अहिरवार, राम प्रताप रैकवार, आशीष रैकवार जय सिंह सहित सैंकड़ों लिपिकवर्ग कर्मचारी शामिल रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close