Uncategorizedपन्ना

भीड़ द्वारा पकड़कर मारने की घटनाओं में हो रहा इजाफा

भीड़ द्वारा पकड़कर मारने की घटनाओं में हो रहा इजाफा

पुलिस की भूमिका पर लग रहे सवालिया निशान

घटनाओं पर रोक लगाने तथा प्रभावी कार्यवाई करने सर्व समाज ने सौंपा ज्ञापन

पन्ना – {sarokaar news} जिले में विगत दिनों हुई घटनाओं को देखते हुए कहा जा सकता है कि पुलिस अपने कर्तव्यों को पूरी तरह भूल गई है। देश में हो रही मॉबलिंचिंग की घटनाओं से शांति का टापू कहा जाने वाला पन्ना भी अब अछूता नहीं रहा है। मॉबलिंचिंग पर अब तक देश की पुलिस का जो रवैया रहा है ठीक उसी रवैये को कायम रखते हुए पन्ना पुलिस भी लिंचिंग की घटनाओं पर कानून को दरकिनार तथा आमजन के अधिकारों को रोंदते हुए कम कर रही है। भीड़ द्वारा किसी को भी पकड़कर मारा जाता है और उसका वीडियो वायरल हो जाता है इसके बाद भी पुलिस कार्रवाई के नाम पर अज्ञात लोगों पर मामला कायम करती है।

एक ओर पुलिस बड़े बड़े अपराधियों को पकड़कर वाहवाही बटोरती है तो दूसरी ओर खुलेआम सड़क पर पकड़कर मारने वालों पर जिसका बाकायदा वीडियो है और सोशल मीडिया पर मंडराते हुए इस वीडियो को पुलिस देख नहीं पा रही है और जब उसे बताया जाता है कि घटना का वीडियो है तो वह सुनने के लिए भी तैयार नहीं है तो इसे क्या कहा जाए। क्या पुलिस जान बूझकर इस घटना पर पर्दा डालने का काम कर रही है और अगर ऐसा हो रहा है तो इसके पीछे क्या कारण हो सकते हैं।

पन्ना जिले में अबतक तीन चार घटनाएं हो चुंकीं है जहाँ भीड़ ने अफवाह फैलाकर लोगों के साथ मारपीट की है इसके बाद भी पुलिस द्वारा इन घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए कोई ठोस प्रयास नहीं किये हैं जिससे पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लग रहे हैं। कुछ दिन पूर्व बृजपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत रक्सेहा में एक विक्षिप्त महिला के साथ भीड़ ने बच्चा चोरी की कोरी अफवाह के चलते मारपीट की थी। इस घटना के 24 घंटे बाद आदिवासी समुदाय की महिला पुरुष पन्ना में बस स्टैंड के पास बैठे थे लोगों ने अफवाह उड़ा दी बच्चा चोर गिरोह है। बस फिर क्या था लोगों ने फौरन पकड़ कर मारना पीटना शुरू कर दिया इसके बाद उन्हीं लोगों में से किसी ने 100 नंबर को कॉल किया पुलिस आती है उनको थाने ले जाती है और थाने में पुलिसकर्मी महिलाओं को धकियाते हुए और पुरुषों को पीटते हुए चलने के लिए कहता है, इसके बाद पीड़ित महिला पुरुष और बच्चे बच्चियों को जमीन पर बैठाकर एक पुलिसकर्मी पूछताछ करता है। पता चलता है कि उक्त आदिवासी शाहनगर के निवासी है और निरापराध हैं तब जाकर उनको छोड़ा जाता है।

झूठी अफवाह पर पुलिस द्वारा आदिवासी महिलाओं के साथ अभद्रता और पुरुषों की पिटाई हुई

बड़ा सवाल यह है कि लोगों में जिस तरह अफवाह फैलाकर किसी को भी मारपीट करने की हिंसक प्रवृत्ति बढ़ रही है तथा पुलिस भी पीड़ितों के साथ बर्बर तरीके से पेश आती है तथा भीड़ और पुलिस समान रूप से एक जैसी प्रतिक्रिया देते हैं इसका क्या मतलब निकाला जाए। अभी अभी मौजूदा प्रदेश सरकार आदिवासियों के हक और हुकूक की बात करती है तथा उनको संरक्षण दिए जाने की वकालत करती है और उसी सरकार की पुलिस आदिवासियों को महज अफवाहबाजी के चलते पकड़ लेती है और थाने ले जाकर महिलाओं से पुलिसकर्मी अभद्रता करते हैं और पुरुषों को पीटते हैं। आदिवासी के अधिकारों की बात करने वाले इस घटना पर चुप्पी साध लेते हैं।

मॉबलिंचिंग की घटनाओं पर रोक लगाने तथा प्रभावी कार्यवाई करने सर्व समाज ने सौंपा ज्ञापन

गुनौर में भोपाल के युवकों को भीड़ द्वारा जिस हिंसक तरीके से मारा जाता है और वहां की पुलिस तमाशबीन की तरह पूरी घटना को देखती है इससे पता चलता है कि कानून अपना काम ठीक से नहीं कर रहा है। पुलिस के गैरजिम्मेदाराना रवैये से नाराज लोगों ने ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए लगातार गुहार लगाईं जा रही है इसके बाद भी पुलिस कानून सम्मत कार्रवाई करने में अभी तक नाकाम साबित हुई है। पन्ना जिला में हो रही इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए सर्व समाज के लोगों द्वारा मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में उल्लेख है कि दिनांक 5/8/2019 को गुनौर में युवकों के साथ मॉबलिंचिंग की घटना पर पुलिस द्वारा अज्ञात लोगों पर मामला दर्ज किया गया है जबकि उक्त घटना का वीडियो वायरल हुआ है उसमे स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है कि घटना को अंजाम देने वाले कौन लोग थे और उनकी क्या मंशा थी। ज्ञापन में सर्व समाज द्वारा मांग की गई है कि उक्त लिंचिंग के मामले में संलिप्त व्यक्तियों के विरुद्ध नामजद रिपोर्ट दर्ज करने एवं उन्हें दंडित किया जाना समाज हित में अति आवश्यक है ताकि भविष्य में इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकी जा सके। ज्ञापन सौंपने वालों में किसान नेता शशिकांत दीक्षित,अब्दुल हमीद,एडवोकेट शैलेश विश्वकर्मा,रियासत खान, कदीर खान,पूर्व पार्षद मनोज सेन,अकील खान सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

भीड़ द्वारा बेगुनाहों को कैसे पीटा जा रहा है देखें वीडियो –

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
Close